Posts

Showing posts from April, 2018
आप 'विश्व क़िताब दिन' मनातें हैं 
मसरूफ़ है हम ज़िन्दगी पढ़ने मे..!

- मनोज 'मानस रूमानी'
कहाँ है वह रुख़-ए-माहताब..
जिसका नज़र आ रहा है नूऱ!

- मनोज 'मानस रूमानी'